Friday, August 15, 2014

प्रेम अभिव्यक्ति-

प्रेम अभिव्यक्ति-

विक्टर हयुगों-जीवन का सबसे बड़ा सुख यह प्रतीति हैं की हमे कोई हमारी ही खातिर प्यार करता हैं इतना ही नहीं हमारी कमियो के बावजूद भी हमे प्यार करता हैं |


ब्रायन -पुरुष के हृदय की दया,प्रेम,सहृदयता हमे क्या प्रभावित करेगी इन गुणों की अक्षय भंडार तो हम नारिया ही हैं इनके कुछ जूठे टुकड़े देकर हम ही इन्हे कृताज्ञ करती हैं और सौन्दर्य....... तो पुरुष के ऊबड़ खाबड़ व्यक्तित्व मे सौन्दर्य के लिए स्थान ही कहाँ हैं की उससे वह किसी कों प्रभावित कर सके हाँ ..... अपने आँधी तूफानो के बीच जहां हम कांप उठती हैं वहाँ बिना हिलेडुले,घबराए अपनी जगह पर खड़े रहने की क्षमता पुरुष मे हैंऔर उसी के लिए हम अपना सर्वस्व उसे समर्पित करती हैं |

No comments:

Post a Comment